ब्लॉगर्स की नई ABC

अब जब ब्लॉगर्स दुनियां में अजूबा चीज़ हैं तो हमारी हर अदा, हटके ही होनी चाहिए. अब देखिये न ब्लॉगर्स स्कूल में ABC की किताब भी कुछ हटकर ही है!!!




A: APPLE






B: BLOG


 

C: CHAT






D: DOWNLOAD



E: E MAIL





F: FACEBOOK






G: GOOGLE




H: HEWLETT PACKARD





I: iPHONE





J: JAVA





K: KINGSTON






L: LAPTOP




M: MESSENGER





N: NERO



O: ORKUT





P: PICASSA




Q: QUICK HEAL



R: RAM





S: SERVER




T: TWITTER




U: USB




V: VISTA






W: WiFi





X: Xp





Y: YOU TUBE







Z: Zorpia

चलिए एक चीज़ तो कम से कम पुरानी ही है 'ए फॉर एप्पल' !!!!!!!!!!!!!!!!
आपकी राय:

29 comments:

  1. Jabarst Mehnat ka nateeja hai.

    Aaj khali hain kya.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर , एकदम नई चीज है नए परिपेक्ष में !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर , एकदम नई चीज है नए परिपेक्ष में !

    ReplyDelete
  4. मैंने तो याद करने के लिए प्रैक्टिस शुरू करदी शाहनवाज भाई ! एक टेबल का कोर्स भी बताओ !

    ReplyDelete
  5. अरे भाई लगता हे आप ने पी.ऎच.डी कर ली इस नयी भाषा मे मजे दार ओर मस्त जी पढ कर मजा आ गया, एक दम से बिलकुल नयी ..
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. बिलकुल अब हम भी सीख गए :)

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर , एकदम नई चीज है नए परिपेक्ष में|धन्यवाद|

    ReplyDelete
  8. यह तो मेरी ABC से बहुत अलग है.....

    ReplyDelete
  9. वाह बेटा बहुत खूब्! आशीर्वाद।

    ReplyDelete
  10. कमाल है ...आपने क्या शोध किया है...वाह...

    नीरज

    ReplyDelete
  11. vaah bhaai mzaa aa gya aapne to ab blog ke bare men a to z tk sikhaa diyaa . akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  12. शाहनवाज भाई आपकी पाठशाला वास्तव मेँ अद्भुत है

    ReplyDelete
  13. मतलब यह तो तय हो गाया कि दुनिया में 'ए' फॉर 'एप्पल' हमेशा रहेगा,चाहे जो हो!

    ReplyDelete
  14. जोरदार बाराखडी अंग्रेजी में ब्लाग की.

    ReplyDelete
  15. ek perfect P.hd-----
    jai baba banras---

    ReplyDelete
  16. बहुत बहुत बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  17. haan sahee hai....
    A for APPLE puraanaa hai...

    ReplyDelete
  18. ब्लॉग्गिंग की पाठशाला .......

    यम्म्मी

    ReplyDelete
  19. आपकी मेहनत सर आँखों पर ।

    ReplyDelete
  20. पुरानी ए.बी.सी वाली बुक पढ़-पढ़कर बोर हो गए थें, आजकल के बच्चे. आधुनिक दौर की ए.बी.सी वाली बुक की रचना करने के लिए शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  21. बहुत खूब... नई ए बी सी तो बहुत बढिया लगी... प्रेम रस के ज़रिए कहाँ कहाँ की सैर कर ली...शुक्रिया

    ReplyDelete