कोलकाता जैसे हादसों के ज़िम्मेदार हम हैं!

कोलकाता के हादसे ने कितने ही लोगो की जान ले ली, बल्कि हमारे देश में तो रोज ही हज़ारों लोग इस तरह की लापरवाही तथा भ्रष्ठ तंत्र के शिकार बनते हैं. 'मेरा काम आसानी से होना चाहिए', और 'यहाँ तो ऐसे ही चलता है' जैसी सोच ही इस लापरवाही और भ्रष्ठ तंत्र की ज़िम्मेदार है.

सरकार अथवा प्रबंधन को कोस कर, कुछ दिन के लिए लोग जागरूक बन जाएँगे. अपने आस-पास की कमियों पर नज़र जाएगी, तब्सरे होंगे, शिकायते होंगी... और उसके कुछ दिन बाद फिर से वही सब पुराने ढर्रे पर चलने लगेगा, अगले हादसे तक...

क्योंकि 'यहाँ तो ऐसे ही चलता है', दुनिया जाए भाड़ में 'मेरा काम आसानी से होना चाहिए'

जामा मस्जिद का इमाम कोई बुखारी ही क्यों?

आखिर जामा मस्जिद में इमाम की नियुक्ति में परिवारवाद क्यों चलता आ रहा है? जबकि यह इस्लाम का तरीका भी नहीं है.

किसी भी मस्जिद के इमाम को नियुक्त करने की ज़िम्मेदारी वहां की कमेटी की होती है, इस्लाम में मस्जिद की इमामत तो क्या मुल्क की देखभाल करने (जिसे आप राज करना भी कह सकते हैं) जैसे महत्वपूर्ण कामों में भी पारिवारिक दखल की कोई गुंजाइश नहीं होती, बल्कि यह निर्णय काबिलियत के एतबार से होता है. फिर आखिर कोई बुखारी परिवार का सदस्य ही क्यों जामा मस्जिद की इमामत संभालता हैं? हैरत की बात है की कहीं कोई विरोध भी नहीं है?

बेचारे ड्राइवर रहते हैं चौबीस घंटे बस में :-)


एक यात्री ने उत्सुक्तावश  ड्राइवर से मालूम किया: 

ड्राइवर साहब आप बस में कितने घंटे रहते हैं?




ड्राइवर भी हाज़िर जवाब था, फट से यात्री से बोला: 

चौबीस घंटे।



यात्री ने हैरानगी दिखाते हुए मालूम किया:

यह कैसे संभव है?



ड्राइवर फट से बोला:

मित्र, आठ घंटे सरकार की बस में और सौलह घंटे पत्नी के बस में!

एक विचार


मिटटी के कच्चे बर्तन में रखा दूध ज्यादा अच्छा है,
किसी सोने के बर्तन में रखे ज़हर मिले खाने से।

प्रणव दा की गुगली पर चिदम्बरम पगबाधा!

प्रणव दा ने अपनी गुगली से चिदम्बरम पर पगबाधा आउट की ज़बरदस्त अपील की हैं. अम्पायर फैसला बैट्समैन के हक में दे रहे हैं, हालाँकि सभी खिलाड़ी और दर्शक जानते हैं कि बैट्समैन आउट है या नॉट-आउट! 

अगर अम्पायर ने आउट करार नहीं दिया तो तीसरे अम्पायर से अपील की जा सकती है.

बहरहाल मैच का रुख चाहे जो भी हो, लेकिन मैच के बाद भी इस विकेट की गूंज देर तक सुनाई दिए जाने की संभावना है. क्योंकि यहाँ विकेट अपनी टीम के ही सदस्य ने उड़ाने की कोशिश की है.

पसोपेश में मोदी


अजीब मुसीबत में फंस गए हैं नरेन्द्र मोदी, सद्भावना मिशन के तौर-तरीके से हिन्दू संगठन नाराज़ हो गए हैं और टोपी प्रकरण से मुस्लिम...

दमन में नई सुबह

दमन में नई सुबह तैयार है दिल्ली के एक ब्लॉगर का स्वागत करने के लिए, या यूँ कहूँ की झेलने के लिए...

कल रात दिल्ली से मुबई पहुंचा तथा रात को ही दमन के लिए निकल गया था, देर रात दमन पहुंचा. रात के 1 बजे सूनसान सा था दमन, देखते हैं दिन में कैसा होगा?


अभी नाश्ता करके तैयार हूँ, बल्कि यूँ कहूँ कि बेताब हूँ दमन से रुब-रु होने के लिए.





दमन में अगर कोई ब्लॉगर बंधू है तो संपर्क करे... :-)





Keywords: Daman & Div, journey

कांग्रेस को नानी याद आ गई!


घर में चार दिन औरत ना हो तो घर का हल कैसा हो जाता है... यह तो कोई कांग्रेस से पूछे... :-)

क्या हाल बना रखा था अन्ना के अनशन के कारण. हर दांव उल्टा पड़ रहा था. आखिरकार विपक्ष का सहारा लेना पड़ा.

जनता फांसे नेताओं को, नेता जनता को फांसे

जनता चाहती हैं  कि भ्रष्टाचारी नेताओं को लोकपाल जैसे सख्त कानून में फांस ले और नेताओं ने व्यवस्था ऐसी बना दी है जिसमें जनता खुद ही भ्रष्टाचारी बन रही है, जिससे वह मौज लेते रहे. 

देखिये कार्टून: 


दुश्मनों को कुछ ऐसे डराते हैं हमारे गृहमंत्री!

गृहमंत्री: यह हमला केवल मुंबई पर नहीं, बल्कि पुरे देश पर हमला है। यह भारत की एकता, अखंडता और समृद्धि पर किया गया हमला है। पानी सर से ऊपर जा चुका है, देश ऐसी हरकतों को हरगिज़-हरगिज़ बर्दाश्त नहीं करेगा। देश के दुश्मनों पर कड़े से कड़े कदम उठाए जाएँगे!

मैं देशवासियों से आह्वान करता हूँ कि सरकार का अनुसरण करें, आवेश में ना आएँ, एकजुटता और "संयमता" के हथियार से देश में छुपे अथवा पडौसी देश की गोद में बैठे देश के दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब दें!

क्या इतना आत्मविश्वास कभी देखा है?

दुनिया में आपने बहुत-बहुत बड़े आत्मविश्वासी देखें होंगे, लेकिन मैंने अपने जीवन में किसी में इतना आत्मविश्वास कभी नहीं देखा...

क्या आपने इतना आत्मविश्वास कभी देखा है?

खतरनाक आयटम!


मम्मी के हाथों कुछ ही देर पहले पिटा बच्चा पिता के आते ही उनसे बोला- 


"डैडी! क्या आप कभी अफ्रिका गए हो?"


 पिता ने फ़ौरन जवाब दिया - 


"नहीं बेटा! आज तक कभी नहीं गया।"

 


बच्चे ने बहुत ही मासूमियत से मालूम किया - 


"तो फिर इतनी खतरनाक आयटम आप कहां से लाए?"



keywords: khatarnak item, hasy, vyangy, chutkala

पति की हाज़िर जवाबी


एक पति पत्नी से बोला - "यदि भविष्य में मुझे कुछ हो जाता है तो क्या तुम दूसरी शादी कर लोगी?"


पत्नी ने कहा - "मैं अपना सारा जीवन अपनी बहन के साथ गुजार दूँगी, लेकिन दूसरी शादी कभी नहीं करूँगी।"

उसने पति से मालूम किया - "अगर मुझे कुछ हो गया तो क्या तुम दूसरी शादी करोगे?"

पति भी हाज़िर जवाबी से बोला - "ऐसा कभी नहीं होगा! तुम फ़िक्र क्यों करती हो? मैं भी तुम्हारी बहन के साथ ही रह लूँगा।"

सबसे बड़ा सवाल

जो आदमी हमेशा हँसता रहता है 
उसे हसमुख (HUS-MUKH) कहते हैं. 

तो सवाल यह उठता है कि 
जिसका हसना बिलकुल बंद हो जाए 
उसको क्या कहेंगे?


 
 
जवाब:

हस-बंद... मतलब अंग्रेजी  में पढ़े तो...


HUS-BAND

झा जी को पढ़ रही है भारतीय टीम?

भारतीय टीम जानती है कि क्रिकेट विश्व कप कैसे जीतना है... देखिये प्रेक्टिस कितनी ज़बरदस्त चल रही है मैदान में...... होली की :-)





वैसे गलती इनकी भी क्या है? होली का खुमार तो इनपर भी है :-)  लगता है आजकल प्रेक्टिस की जगह अजय झा जी की पोस्ट अधिक पढ़ रही है भारतीय क्रिकेट टीम!!!

कस्टमर केयर गर्ल से बातचीत!

अक्सर ही लोगों के पास किसी न किसी कंपनी से फ़ोन आता रहता है और दूसरी और से मधुर आवाज़ में कस्टमर केयर गर्ल ऐसे अंदाज़ में बात करती हैं  कि नापसंद चीज़ भी खरीद ली जाती है....

देखिये कैसे एक मशहूर हिंदी ब्लोगर इंग्लिश के फेर में परेशान हो रहा है..... या फिर कर रहा है!!!!

आवाज़ सुनकर पहचानिए कि आपको यह किसकी आवाज़ लग रही है???


ब्लॉगर्स की नई ABC

अब जब ब्लॉगर्स दुनियां में अजूबा चीज़ हैं तो हमारी हर अदा, हटके ही होनी चाहिए. अब देखिये न ब्लॉगर्स स्कूल में ABC की किताब भी कुछ हटकर ही है!!!




A: APPLE






B: BLOG


 

C: CHAT






D: DOWNLOAD



E: E MAIL





F: FACEBOOK






G: GOOGLE




H: HEWLETT PACKARD





I: iPHONE





J: JAVA





K: KINGSTON






L: LAPTOP




M: MESSENGER





N: NERO



O: ORKUT





P: PICASSA




Q: QUICK HEAL



R: RAM





S: SERVER




T: TWITTER




U: USB




V: VISTA






W: WiFi





X: Xp





Y: YOU TUBE







Z: Zorpia

चलिए एक चीज़ तो कम से कम पुरानी ही है 'ए फॉर एप्पल' !!!!!!!!!!!!!!!!

एक विचार

किसी अंडे का खोल अगर बाहरी शक्ति के कारण टूटता है
तो एक जीवन का अंत हो जाता है.


वहीँ अंडे का खोल अगर आन्तरिक शक्ति के कारण टूटता है
तो एक जीवन की शुरुआत होती है.



महान शुरुआत का स्त्रोत हमेशा हमारे अन्दर होता हैं.