बाहर मानसून का मौसम है




बाहर मानसून का मौसम है,
लेकिन हरिभूमि पर
हमारा राजनैतिक मानसून
बरस रहा है।

आज का दिन वैसे भी खास है,
बंद का दिन है और हर नेता
इसी मानसून के लिए
तरस रहा है।


मानसून का मूंड है इसलिए
इसकी बरसात हमने
अपने ब्लॉग
प्रेम रस
पर भी कर दी है।

राजनैतिक गर्मी का
मज़ा लेना,
इसे पढ़ कर
यह मत कहना
कि आज सर्दी है!

मेरा व्यंग्य: बहार राजनैतिक मानसून की

- शाहनवाज़ सिद्दीकी "साहिल"
आपकी राय:

10 comments:

  1. Kya bat hai shah ji, post ke liye post.... abhi padhta hu apka राजनैतिक मानसून

    ReplyDelete
  2. शाहनवाज़ भाई व्यंग के साथ-साथ कविता भी बहुत मजेदार है. वह क्या बात है!

    ReplyDelete
  3. आपके ब्लॉग का नाम तो छोटी बात है, लेकिन बातें आपकी बहुत बड़ी होती हैं?

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  5. आपने मौसम को और रंगीन बना दिया

    ReplyDelete
  6. बारिश के मौसम के ऊपर एक अच्छी कविता है. शाहनवाज़ जी हिजाब के ऊपर मैंने एक लेख लिखा है, मेरे ब्लॉग पर देखिये.

    ReplyDelete
  7. आज का दिन वैसे भी खास है,
    बंद का दिन है और हर नेता
    इसी मानसून के लिए
    तरस रहा है।

    achhi kavita hai, mazedar hai ;)

    ReplyDelete
  8. शानदार कविता, मैंने आपका व्यंग्य भी पढ़ा है, यह हरिभूमि अखबार कहां मिलता है, मुझे हिंदी पसंद है, लेकिन यह अख़बार का नाम नहीं सुना.

    ReplyDelete